अब हर होटल के मेनू में होगा कॅलरीस का ज़िक्र

लोगों में मोटापे की समस्या देखते हुए एफडीए अब कुछ जरूरी कदम उठाने जा रहा है। महाराष्ट्र में मोटापा लोगो में बड़े ही तेज़ी से बढ़ रहा है और इसके कारण फूड ऐंड ड्रग ऐडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) ने सोचा है कि वक्त आ गया है कि लोगों को पता रहे कि खाते वक्त वे कितनी कैलरीज ले रहे हैं, खासकर जब वे बाहर कुछ खा रहे हों।

आरामदेह जीवनशैली और उच्च कैलरी भोजन तक मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, ऑस्टियोऑर्थराइटिस और यहां तक कि कुछ तरह के कैंसर से ग्रस्त लोगों में वृद्धि हुई है। इसका मुकाबला करने के लिए हाल ही में आयोजित बैठकों की एक श्रृंखला में, एफडीए ने फैसला किया कि हर होटल के मेन्यू में लिखे गए हर आइटम के सामने उसकी कैलरी का जिक्र करना भी शुरू कर देना चाहिए। एफडीए आयुक्त पल्लवी दराडे के विचार पर आधारित इस योजना को अंतिम मंजूरी के लिए राज्य सरकार को भेजा जाएगा और सभी हितधारकों के सुझावों को भी ध्यान में रखा जाएगा।

आने वाले दिनों में अंतिम प्रस्ताव बनाने से पहले एफडीए के अधिकारी भोजन और पैकेजिंग उद्योग, वैज्ञानिकों, रेस्तरां मालिकों, पोषण विशेषज्ञों, आहार विशेषज्ञों और प्रसूतिविदों के प्रतिनिधियों के साथ बैठकें आयोजित करेंगे। बैठकों में तैयार अंतिम प्रस्ताव को करीब दो महीने में राज्य सरकार को भेजे जाने की उम्मीद है। एफडीए अधिकारी परियोजना के लिए अपने स्तर पर भी शोध और बाजार विश्लेषण कर रहे हैं।
इस योजना पर विस्तार से दराडे ने कहा, ‘लोग निश्चित रूप से अपने स्वास्थ्य के बारे में अधिक जागरूक हो रहे हैं, लेकिन वे अभी भी रेस्तरां में भोजन करने के दौरान उपभोग करने वाली कैलरी के बारे में अवगत नहीं हैं। ऑर्डर देने के दौरान उन्हें कितनी कैलरी लेनी हैं इस आधार पर फैसला लेने में उन्हें सक्षम होना चाहिए।’
उन्होंने कहा, ‘इसके अलावा, इस तरह होटल उद्योग भी अपने व्यंजनों में कैलरी के बारे में अधिक जागरूक होगा। यह बिल्कुल सटीक तो नहीं हो सकता है, लेकिन लोग फिर भी कैलरी का स्तर जान सकेंगे।’

Related posts

Leave a Comment