नवजोत सिंह सिद्धू ने करतारपुर साहेब की मांग के लिए लिखे २ खत।

द कपिल शर्मा शो की स्थायी अतिथि और पंजाब सरकार के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने पाकिस्तान और भारत के प्रधानमंत्रियों को रविवार के दिन खत लिखे जिस में उन्होंने ने सिखों के तीर्थयात्रा करतारपुर साहिब की ‘पवित्रता’ बनाए रखने की मांग की और साथ ही सुझाव भी दिए।

नवजोत सिंह सिद्धू ने सुझाव देते हुए कहा की “पवित्रता’ को बनाए रखने के लिए कॉन्क्रीट का कोई निर्माण नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने लिखा, ‘करतारपुर साहिब और डेरा बाबा नानक गुरुद्वारा साहिब की पवित्रता और शुद्धता हमारे तीर्थयात्रियों के कदमों का इंतजार करती है। लेकिन हमारे कदमों से इनके इतिहास, वास्तुकला और पारिस्थितिकी में क्षरण भी होता है। हम इस पवित्र भूमि का सबसे ज्यादा सम्मान करते हैं, तो हमें यह रास्ता आराम से बनाना चाहिए ताकि व्यावसायीकरण और श्रद्धालुओं की सुविधा के नाम पर इसको खराब न किया जा सके। ‘

सिद्धू ने अपने खत में लिखा “वॉशरूम जैसी सुविधाएं देने के साथ ही यह भी ध्यान रखना चाहिए कि ‘कचरा निस्तारण’ की व्यवस्था कायदे से लागू करना सुनिश्चित हो। ‘ उन्होंने जोरदार तरीके से यह मांग की है कि प्लास्टिक बैग, बोतल, स्टीरोफोम, डिब्बाबंद खानपान के इस्तेमाल पर बिल्कुल रोक हो और तीर्थयात्रियों के लिए जगह-जगह लंगर की व्यवस्था हो। कचरा निस्तारण की व्यवस्था सावधानीपूर्वक तैयार कर लागू की जानी चाहिए। प्लास्टिक बैग, बोतल, पैकेज्ड फूड के कूड़े-कचरे के लिए कोई जगह नहीं होनी चाहिए। ‘

पंजाब के गुरदासपुर जिले में स्थित डेरा बाबा नानक से लेकर पाकिस्तान में अंतरराष्ट्रीय सीमा के करीब करतारपुर साहिब सिखों की तीर्थयात्रा जो रावी नदी के तट पर स्थित गुरुद्वारा है। यहाँ गुरु नानक देव ने जीवन के 18 साल गुजारे थे। जिसके लिए पहले ही कॉरिडोर बनाने के लिए आधारशि‍ला राखी जा चुकी है। इससे पाकिस्तान में रावी नदी के तट पर स्थित गुरुद्वारा करतारपुर साहिब जाने वाले भारतीय सिख श्रद्धालुओं को काफी सहूलियत होगी। यह कॉरिडोर ५ की.मि लम्बा जिसमे २ की.मि भारत में और ३ की.मि पकिस्तान में होगा। इसमें भारत १६ करोर्ड़ और पाकिस्तान १०४ करोर्ड़ खर्च करेगा।

Related posts

Leave a Comment