प्राइवेट कंपनी से मुंबई महानगर क्षेत्र विकास प्राधिकरण (एमएमआरडीए) ने हाथ में लिया मोनोरेल का परिचालन

मुंबई : मुंबई महानगर क्षेत्र विकास प्राधिकरण (एमएमआरडीए) ने देश की पहली मोनोरेल का परिचालन प्राइवेट कंपनी से छीनकर खुद के हाथ में लिया है। सरकारी प्राधिकरण ने मोनोरेल को लेकर हुई करार को रद्द कर दिया है। साथ ही 200 करोड़ रुपये की बैंक गारंटी भी जब्त कर ली। जिससे एल एंड टी और एसई कंपनी को जोर का झटका लगा है।
एमएमआरडीए के आयुक्त आर.ए.राजीव ने कहा की , ‘चेंबूर से वडाला तक देश की पहली मोनोरेल शुरू करने को लेकर लार्सन एंड टुब्रो व स्कोमी इंजिनियरिंग की संयुक्त कंपनी एलटीएसई के साथ 2008 में हुआ था लेकिन करार के प्रावधानों की पूर्ति नहीं होने से इसे रद्द करने का फैसला लेना पड़ा। यह फैसला लेने से पहले कंपनी को कार्य में सुधार करने का पर्याप्त समय दिया गया। गाडी की आपूर्ति, यातायात संचालन और प्रबंधन सहित कई स्तर पर करार के प्रावधानों को पूरा करने में असफल रही।

Related posts

Leave a Comment