७०वें गणतंत्र दिवस परेड: कुछ पहली बार तो कुछ कई साल बाद।

इस बार ७०वें गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर जो परेड होने जा रही है उसमें काफी कुछ नया और पहली बार होगा जो देखने वालो को बिल्‍कुल नई अनुभूति देगा। पहली बार गणतंत्र दिवस के परेड में वुमेन पावर राजपथ पर दिखाई देगी। फ्लाइपास्‍ट में पहली बार बायोफ्यूल एयरक्राफ्ट भी शामिल होगा। “शंखनाद” नामक इंडियन मार्शल धुन पहली बार राजपथ पर सुनाई देगी। सिख लाइट इंफ्रैंटी, महार रेजिमेंट और लद्दाख स्काउट्स के सामूहिक सैन्य बैंड यह मार्शल ट्यून बजाएंगे। भारतीय शास्त्रीय संगीत पर आधारित, शंखनाद आजाद भारत की पहली मूल मार्शल ट्यून है। राग बिलसखनी तोडी, राग भैरवी और राग किरवानी यह तीन पारंपरिक रागों का संयोजन है शंखनाद। परमानंद यादव, हीरालाल, लालती राम और भागलमल जो इंडियन नैशनल आर्मी के चार पूर्व सैनिक पहली बार राजपथ पर पे दिखाई देंगी जिनकी उम्र ९० से ज़्यादा है।

भारतीय सेना में अपने नए हथियार और इक्विपमेंट को डिस्प्ले करेगी जिसमें एम-777 होवित्जर और भारत में लार्सन और टूब्रो के तहत के-9 वज्रा आर्टिलरी गन शामिल है। सीआईएसएफ के जवान ११ वर्षो के बाद फिर से एक बार दिखाई देंगे।
डेयरडेविल्स टीम जो सेना के सिग्नल कोर का हिस्सा है पहली बार एक महिला अधिकारी कैप्टन शिखा सुरभि,राजपथ पर स्टंट दिखाते हुए महिला शक्ति का एहसास कराएंगी। सात अलग-अलग गोरखा रेजिमेंट को मिलाकर बनी गोरखा ब्रिगेड भी पहली बार राजपथ पर दिखाई देगी जिसके आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत है। प्रवासी भारतीय भी इस परेड में शामिल होंगे।
इस परेड की सुरक्षा को बढ़ाने के लिए ३० हाईटेक फेस रिकॉगनिशन तकनिकी कमरे कैमरे लगाए है जो सीधे कंट्रोल रूम से जुड़े है। संदिग्‍ध चेहरा नजर आते ही सायरन बजेगा और साथ ही लाइव फोटो क्लिक हो के कण्ट्रोल रूम को शो होगी। तेहेलका न्यूज़ २४ की तरफ से सभी भारत वासियो को ७०वें गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें।

Related posts

Leave a Comment